पूर्व सांसद व राकाँपा नेता डीपी त्रिपाठी का निधन

डीपी त्रिपाठी

नयी दिल्ली। राज्यसभा के पूर्व सदस्य व राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी (राकाँपा) के वरीय नेता डीपी त्रिपाठी का बृहस्पतिवार, 2 जनवरी 2020 को निधन हो गया। वह लम्बी अवधि से कई बीमारियों से पीड़ित थे। दिल्ली के एक अस्पताल में उन का निधन हो गया। राकाँपा प्रमुख शरद पवार का उन्हें बेहद करीबी माना जाता था। सन् 1968 ईस्वी में राजनीति में आये डीपी त्रिपाठी को संसद के अच्छे वक्ताओं में शुमार किया जाता था। आपातकाल में आंदोलन के चलते वह कारावास भी गये थे। त्रिपाठी राकाँपा के महासचिव थे। पिछले साल ही राज्यसभा से उन का कार्यकाल समाप्त हुआ था। अपने विदाई भाषण में उन्होंने सेक्स के मुद्दे को उठाते हुए कहा था कि आज तक इस पर संसद में चर्चा नहीं हुई जबकि गाँधी जी और लोहिया ने भी इस पर बात की थी। उन्होंने कहा था कि सेक्स से जुड़ी बीमारियों के चलते मौतें होती हैं लेकिन कभी इस पर बात नहीं हुई। उन्होंने कहा कि जिस देश में कामसूत्र जैसी पुस्तक लिखी गयी थी, वहाँ की संसद में सेक्स जैसे विषय पर कभी बात नहीं की गयी। इस पुस्तक को लिखनेवाले वात्स्यायन को ऋषि का दर्जा प्राप्त था। अजन्ता-अलोरा की गुफाएँ और खजुराहो के स्मारक इसी पर समर्पित हैं लेकिन कभी संसद तक में यह मसला नहीं उठा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *